1. मानसून प्रकृति के ताज़ा हिस्से की खोज का समय है। यह मौसम कुछ लोगों का पसंदीदा है जबकि कुछ लोगों को स्पष्ट कारणों से इससे नफरत है। जो भी हो, अगर आप इस दौरान अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत हैं, तो आपको यह जानना होगा कि बीमारियों और संक्रमणों की संभावना है। इसमें आपकी मदद के लिए, यहां बरसात के मौसम में स्वस्थ रहने के शीर्ष 10 सुझाव दिए गए हैं। ये युक्तियाँ निश्चित रूप से आपके स्वास्थ्य में सुधार करेंगी क्योंकि आप विशिष्ट स्वास्थ्य आवश्यकताओं को समझेंगे। कुछ सर्वोत्तम स्वास्थ्य देखभाल सेवाओं के विशेषज्ञ आपको ये आवश्यक सुझाव सुझाते हैं। तो आइए इसके बारे में विस्तार से जानते हैं।
  1. अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाएँ:- पहला कदम जो आपको उठाने की ज़रूरत है वह है अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाना। बरसात के मौसम में ज्यादातर बीमारियाँ और संक्रमण रोग प्रतिरोधक क्षमता की कमी के कारण होते हैं। साथ ही वातावरण में अत्यधिक नमी के परिणामस्वरूप आपको खांसी, सर्दी और बुखार होने का खतरा रहेगा। सुरक्षित रहने के लिए, आप कुछ घरेलू उपचार आज़मा सकते हैं जैसे सूप में लहसुन डालना और चाय में अदरक मिलाना।

  1. कड़वी सब्जियाँ खाएँ:- जैसा कि विशेषज्ञ सुझाव देते हैं, यह भी एक आवश्यक सलाह है। कुछ संस्कृतियों में, विशेषकर बरसात के मौसम में करेला जैसी सब्जियाँ खाना परंपरा का एक हिस्सा है। ऐसी सब्जियों से आपको कई फायदे मिलते हैं और इसलिए, आपको इसे अपने दैनिक भोजन में शामिल करना होगा।

करेला:

करेला का स्वाद कड़वा होता है इसलिए लोग इसे खाना पसंद कम करते हैं। करेला खाने में बेशक कड़वा होता है, लेकिन इसके अनको स्वास्थ्य लाभ भी हैं। इसमें मौजूद विटामिन ए, विटामिन सी, पोटेशियम और एंटीऑक्सीडेंट ना सिर्फ आपको फिट रखता है बल्कि डायबिटीज की समस्या से भी निजात दिलाता है। डायबिटीज के मरीजों के लिए करेला का जूस बेहत फायदेमंद है।

क्रूसिफेरस वेजिटेबल: 

पत्तेदार हरी क्रूस वाली सब्जियों का स्वाद कड़वा होता है। इन सब्जियों में ब्रोकली, मूली और पालक शामिल है। इन सब्जियों में ग्लूकोसाइनेट्स नामक तत्व भरपूर मात्रा में पाया जाता है। यह आपको कई गंभीर बीमारियों से निजात दिलाता है।

कोको:

कोको जो बिना पके होने पर स्वाद में बेहद कड़वा होता है। पॉलीफेनोल में समृद्ध कोको में शक्तिशाली एंटी इन्फ्लेमेंट्री प्रभाव मौजूद होता हैं। यह रक्त प्रवाह को बेहतर बनाने में मदद करता है। ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में भी मददगार है। ये कोलेस्ट्रोल को कंट्रोल करता है। प्रतिदिन इसका सीमित मात्रा में सेवन करने से सेहत को कई तरह की बीमारियों से महफूज रखा जा सकता है।

डंडेलियन ग्रीन्स:

डंडेलियन ग्रीन्स हरे पत्ते होते हैं जिसे सलाद में कच्चा खाया जा सकता है, साइड डिश के रूप में सूप और पास्ता में शामिल किया जा सकता है। डंडेलियन ग्रीन्स स्वाद में बहुत कड़वे होते हैं जिसका इस्तेमाल लहसुन या नींबू के साथ करके इसके स्वाद को बेहतर बनाया जाता है। इसमें कई विटामिन और खनिज मौजूद रहते हैं। इनमें कैरोटेनॉयड्स ल्यूटिन और ज़ेक्सैन्थिन भी होते हैं, जो आपकी आँखों को मोतियाबिंद से बचाते हैं।

नींबू और संतरे के छिलके: 

सिटरस फ्रूट्स जैसी की नींबू और संतरे में भरपूर मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है। इन फलों के छिलकों में फ्लैवेनॉयड्स होते हैं जिसकी वजह से इनका स्‍वाद कड़वा होता है। फ्लैवेनॉयड्स का काम फलों को कीड़े से बचाने का होता है। कई अध्ययनों के मुताबिक सिट्रस फ्रूटों में मौजूद फ्लेवोनोइड सूजन को कम करने में मददगार है। ये कैंसर कोशिकाओं के विकास और प्रसार को धीमा करता है।

  1. उबला हुआ पानी पियें:- बरसात के मौसम में दूषित पानी के कारण कई बीमारियाँ हो सकती हैं। इसलिए, सुनिश्चित करें कि आप केवल स्वच्छ और सुरक्षित पेयजल ही पियें। घर पर पानी उबालना ऐसी बीमारियों से छुटकारा पाने का सबसे अच्छा तरीका हो सकता है।
  1. डेयरी उत्पादों का सेवन करें:- बरसात के मौसम में, दूध अपच का कारण बन सकता है और विकल्प के रूप में, आप अन्य डेयरी उत्पादों जैसे पनीर, ताजा दही और छाछ का चयन कर सकते हैं। ये उत्पाद पाचन को बेहतर बनाने और आपको स्वस्थ रखने में मदद करेंगे।

  1. हर्बल चाय शामिल करें:- हम सभी इन चायों के कई लाभों को जानते हैं। अब, बेहतर स्वास्थ्य सुनिश्चित करने के लिए सामान्य चाय के बजाय हर्बल चाय पर स्विच करने का समय आ गया है। अपनी प्रतिरक्षा और भूख को बढ़ाना दो तत्काल परिणाम हैं जो आप कुछ दिनों के बाद देखेंगे।
  1. फल चुनते समय सावधान रहें:- सभी फल खाना एक अच्छी आदत है क्योंकि प्रत्येक फल से आपको कई पोषक तत्वों से भरपूर पोषण मिलता है। हालाँकि, बरसात के मौसम में तरबूज जैसे विशिष्ट फलों से परहेज करना ही अच्छा है। इसकी जगह आप नाशपाती, आम, सेब और अनार जैसे फलों को अपने आहार में शामिल कर सकते हैं।


बरसात के मौसम में कौन सा फल सबसे अच्छा होता है?

सेब, जामुन, लीची, आलूबुखारा, चेरी, आड़ू, पपीता, नाशपाती और अनार जैसे फल बारिश के मौसम में प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर बनाने के लिए आपके आहार में शामिल किए जाने वाले सर्वोत्तम फलों में से कुछ हैं। तरबूज और खरबूज से परहेज करें।

बारिश में क्या खाएं क्या ना खाएं?

Foods for Rainy season: बारिश के दिनों में क्या खाएं क्या नहीं? ये हैं एक्सपर्ट के 5 आसान से टिप्स

  • ​हरी पत्तेदार सब्जियां न खाएं हरी पत्तेदार सब्जियों को बहुत पौष्टिक और सेहत के लिए लाभकारी मान जाता है। …
  • ​मांसाहार से दूर रहे …
  • ​तला हुआ खाना …
  • ​सॉफ्ट ड्रिंक …
  • ​खुले पड़े फल और जूस पीने से बचें
  1. मसालेदार भोजन से दूर रहें:- यदि आप मसालेदार भोजन खाने के इच्छुक हैं, तो मानसून वह समय है जब आपको खुद को मसालेदार भोजन से दूर रखना होगा। यह वह समय है जब आपको ऐसे खाद्य पदार्थों के कारण त्वचा की एलर्जी और जलन हो सकती है। इसके बजाय, आप स्वस्थ सूप और कम या मध्यम मसालेदार गर्म खाद्य पदार्थ शामिल कर सकते हैं।

पेट में क्या होता है जब हम बहुत मसालेदार खाना खाते हैं?

मसालेदार भोजन का सेवन करने से पेट में एसिड का प्रोडक्शन बढ़ सकता है. ऐसा इसलिए हो सकता है क्योंकि कैप्साइसिन हार्मोन गैस्ट्रिन की वजह बनता है, जो पेट को ज्यादा से ज्यादा एसिड बनाने के लिए मजबूर कर सकता है और ब्लडस्ट्रीम में रिलीज कर देता है.

  1. रुके हुए पानी से बचें:- बारिश का रुका हुआ पानी गंभीर बीमारियों का कारण बन सकता है और इसलिए, आपको इससे बचने की जरूरत है। अप्रयुक्त टैंक, वाटर कूलर और फूल के गमलों के अंदर के पानी को फेंकने का प्रयास करें। पानी की सतहों को साफ और सूखा रखने से आपको अत्यधिक लाभ मिलेगा।
  1. मॉस्किटो रिपेलेंट का उपयोग करें:- बरसात के मौसम में कीड़े तेजी से बढ़ते हैं और ये बड़ी स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बनते हैं। इस दौरान रूम फ्रेशनर, माइल्ड डिटर्जेंट और परफ्यूम जैसे कुछ अन्य हैक्स के साथ-साथ मच्छर भगाने वाले भी जरूरी हैं।
  1. छाता और रेनकोट ले जाएं:- जब भी आप बाहर जाएं, तो बारिश के मौसम में आवश्यकता पड़ने पर छाता या रेन कोट या दोनों अपने साथ ले जाने का प्रयास करें। सर्दी, खांसी, फ्लू और बुखार जैसी बीमारियों से बचने के लिए खुद को सूखा, ताजा और साफ रखना सबसे अच्छा तरीका है।

अगर आप इन सभी बातो का बरसात के मौसम में पूरा ध्यान रखेंगे तो अपने साथ अपने परिवार की भी सुरक्षा कर पाएंगे।

इस जानकारी को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *